Success Story: एक गरीब किसान की 17 साल की बेटी ने जीते 3 करोड़, गांव का नाम रोशन किया

Hindi jane, Digital Desk: एक किसान की बेटी ने देश ही नहीं बल्कि दुनिया में अपना और अपने क्षेत्र का नाम रोशन किया है। 17 साल की उम्र में तमिलनाडु की बेटी स्वेगा समिनाथन को अमेरिका के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक शिकागो विश्वविद्यालय से करीब 3 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति मिली है।

मेहनत और लगन से जो भी काम किया जाता है उसमें सफलता जरूर मिलती है। कुछ ऐसा ही एक गरीब किसान की 17 साल की बेटी ने किया है, जिसने अपनी मेहनत के दम पर तीन करोड़ अमेरिकी स्कॉलरशिप जीती है। आइए जानते हैं उनकी पूरी कहानी।

स्वेगा समीनाथन तमिलनाडु के इरोड जिले के एक गांव में रहती हैं

तमिलनाडु के इरोड जिले की 17 वर्षीय लड़की स्वेगा समिनाथन को अमेरिका में शिकागो विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल करने के लिए 3 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप मिली है। स्वेगा समीनाथन के पिता एक किसान हैं। उनका परिवार इरोड जिले के कासिपलायम नामक एक छोटे से गाँव में रहता है।

संस्था से जुड़कर सीखा नेतृत्व कौशल

डेक्सटेरिटी ग्लोबल संगठन ने स्वेगा को यह उपलब्धि हासिल करने में मदद की। Dexterity Global द्वारा बताया गया कि इरोड के कसीपालयम गांव की रहने वाली वह संगठन में शामिल हुई और नेतृत्व विकास और करियर विकास कार्यक्रमों के तहत प्रशिक्षण प्राप्त किया।

संस्था को दिया सफलता का श्रेय

वहीं स्वेगा ने अपनी उपलब्धि का श्रेय डेक्सटेरिटी ग्लोबल और इसके संस्थापक शरद सागर को भी दिया है। छात्रवृत्ति पर खुशी व्यक्त करते हुए, स्वेगा समीनाथन ने बताया कि जब वह 14 साल की थीं, तब उन्हें डेक्सटेरिटी ग्लोबल द्वारा पहचाना और बनाया गया था।

यह भी पढ़ें:

Success Story: 13 बार फेल होने के बाद भी नहीं हार मनी, IAS बनकर युवाओं को दिया सफलता का मंत्र

4 साल पहले बिजनेस की शुरुवात की थी, भयंकर आईडिया था, आज 14 हज़ार करोड़ की कंपनी बनी

Leave a Comment

Join Whatsapp