बिहार में ट्रेन हादसा: नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस एक्सीडेंट 4 की मौत और 70 घायल, जानिए रेल मंत्री ने क्या कहा

Bihar, Buxar, Train Accident, North East Express, CasualTS, Injured, Compensation, Railway Minister, Tejashwi Yadav, Diverted Trains, Bihar Latest News, Bihar Train accident,

बिहार में ट्रेन हादसा: बिहार के बक्सर जिले में एक भयंकर ट्रेन हादसा घटित हुआ जिसमें नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस ट्रेन पटरी से उतर गई। इस घातक हादसे में चार लोगों की मौत हो गई, जबकि अन्य 70 लोग घायल हो गए। ट्रेन उस समय दिल्ली के आनंद विहार से गुवाहटी की ओर प्रस्थित हो रही थी।

हादसे की जानकारी

इस घातक हादसे की घटना 11 अक्टूबर की रात करीब 10 बजे रघुनाथपुर रेलवे स्टेशन के पास हुई। हादसे की जानकारी के मुताबिक, ट्रेन के कुछ डिब्बे तभी पटरी से उतर गए जब वह स्टेशन के पास पहुंची।

मौके पर पहुंचे अधिकारी

रेलवे विभाग के अधिकारी और राहत-बचाव की टीमें हादसे की सूचना पाकर तुरंत मौके पर पहुंची। वे घायलों की मदद कर रहे हैं और स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं।

घायलों की स्थिति

बक्सर के SP मनीष कुमार ने जानकारी दी कि घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है और जिनकी स्थिति अधिक गंभीर है, उन्हें पटना के एम्स अस्पताल में भेजा गया है।

मुआवजा और सहायता

रेल प्रशासन ने मृतकों के परिजनों को 10 लाख रुपये का मुआवजा और घायलों को 50 हजार रुपये दिया है। इससे परिवारों को कुछ सांत्वना मिले।

रेल मंत्री का बयान

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस दुखद घटना को देखते हुए अपनी गहरी संवेदना जताई। उन्होंने जाँच के आदेश दिए और कहा कि जल्द ही हादसे की असली वजह सामने आएगी। उन्होंने भी बताया कि रेलवे विभाग के अधिकारी हादसे में प्रभावित हुई रेल लाइन की पुनर्स्थापना पर काम कर रहे हैं।

असम के मुख्यमंत्री की पहल

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने भी बताया कि वह स्थिति पर ध्यान दे रहे हैं और स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर सहायता पहुंचा रहे हैं।

बिहार के उपमुख्यमंत्री की कदम

उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने आपदा प्रबंधन विभाग और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया और बचाव कार्य और चिकित्सा व्यवस्था के लिए त्वरित निर्देश दिए।

ट्रेन सेवा पर प्रभाव

हादसे के कारण, कई ट्रेनें अपने मार्ग को बदलने पर मजबूर हो गईं। दो मुख्य ट्रेनें रद्द भी की गई जिसमें काशी पटना जन शताब्दी और पटना काशी जन शताब्दी शामिल हैं।

आगे की उम्मीद

सरकार और रेल प्रशासन इस हादसे की जाँच में जुटे हुए हैं और उम्मीद है कि जल्द ही इसकी वजह सामने आएगी। साथ ही, घायलों को उचित चिकित्सा दी जा रही है ताकि वे जल्दी से स्वस्थ हो सकें।

जनता की सहायता

हादसे के बाद, स्थानीय जनता ने भी घायल यात्रियों की मदद की। कई लोग खुदको खतरे में डालकर घायलों को बाहर निकाला और उन्हें सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया।

समाजसेवी संगठनों का योगदान

कई समाजसेवी संगठनों ने भी मौके पर पहुंचकर घायलों की मदद की। वे खान-पान, चिकित्सा और अन्य सुविधाओं में योगदान कर रहे हैं।

मीडिया का भूमिका

मीडिया ने भी इस घटना को व्यापक रूप से प्रसारित किया जिससे लोगों को इस दुर्घटना की ताजा जानकारी मिल सकी। इसके जरिए लोग अपने परिजनों की सुरक्षा के बारे में जान पाए।

संचार और परिवहन सेवाएँ

हादसे के प्रभाव से कई यात्री प्रभावित हो गए। प्रशासन ने फंसे हुए यात्रियों को अन्य स्थानों पर पहुंचाने के लिए अतिरिक्त ट्रेनें और बस सेवाएँ प्रदान की।

रेल मंत्रालय की ओर से हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं।

  • पटना हेल्पलाइन:- 9771449971
  • दानापुर हेल्पलाइन:- 8905697493
  • कमर्शियल  कंट्रोल :- 7759070004
  • आरा हेल्पलाइन:- 8306182542
  • पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन- 9794849461, 8081206628
Join Whatsapp