2 हजार का नोट बदलने के लिए नहीं देनी होगी ID, जानिए दिल्ली हाईकोर्ट का फैसला

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने हाल ही में 2,000 रुपये के नोटों को वापस लेने की घोषणा की थी। आरबीआई ने स्पष्ट किया कि व्यक्ति किसी भी बैंक की किसी भी शाखा में 2,000 रुपये के नोट बदल सकते हैं। एक्सचेंज के लिए कोई पहचान देने या कोई फॉर्म भरने की जरूरत नहीं है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय ने बिना किसी पहचान प्रमाण के 2,000 रुपये के नोट को बदलने के आदेश को दिल्ली उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी।

दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज की याचिका

दिल्ली हाई कोर्ट ने अश्विनी उपाध्याय की याचिका खारिज कर दी है। इस याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट ने 23 मई को फैसला सुरक्षित रख लिया था। सुनवाई के दौरान आरबीआई ने इसका कड़ा विरोध किया और कोर्ट से इसे खारिज करने और याचिकाकर्ता पर जुर्माना लगाने का अनुरोध किया।

आरबीआई के वकील ने इसे आर्थिक नीति का मामला बताते हुए कोर्ट के पुराने फैसलों का उदाहरण भी दिया, जिसमें कहा गया था कि कोर्ट को आर्थिक नीति के मामलों में दखल नहीं देना।

वहीं अश्विनी उपाध्याय ने आरबीआई और एसबीआई को आदेश देने की मांग की है कि दो हजार रुपये के नोट बदलने के लिए आईडी प्रूफ अनिवार्य कर दिया जाए। उन्होंने बैंक खाते में नोट जमा करने का भी आदेश देने की मांग की। यह मामला चर्चा के दौरान हुआ और उपाध्याय ने कहा कि वह नोटिफिकेशन के एक हिस्से को चुनौती दे रहे हैं लेकिन पूरे नोटिफिकेशन को चुनौती नहीं कर रहे हैं।

पहली बार बिना दस्तावेज नोट एक्सचेंज

याचिकाकर्ता ने दावा किया कि आरबीआई ने कहा कि 2018 में 6 लाख करोड़ दो हजार से अधिक नोट चलन में थे, जो अब लगभग 3 लाख करोड़ है। आरबीआई के मुताबिक 2000 का नोट लीगल मनी रहेगा। उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया कि यह पहली बार है जब बिना किसी दस्तावेज के नोट बदलने की बात कही गई है।

बिना आईडी के नोट एक्सचेंज क्यों

अश्विनी उपाध्याय ने आरबीआई के तरफ से किये गए एडमिट के बारे में एक संक्षेप में कहा है कि यह ये मानता है कि लगभग सवा तीन लाख करोड़ रुपये की दो हजार रुपये की नोटों का डंप हो चुका है। उन्होंने पूछा है कि हर घर में हर व्यक्ति के पास आधार कार्ड है, फिर ऐसे क्यों हो रहा है कि बिना आईडी के नोट बदले जा रहे हैं?

याचिकाकर्ता ने इस बारे में कहा है कि लगभग हर परिवार में बैंक खाता है। यदि बिना किसी दस्तावेज़ के नोटों को बदला जाएगा, तो यह नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के साथ-साथ उग्रवाद प्रभावित पूर्वोत्तर भारत में कोई भी नोट एक्सचेंज कर लेगा।

RBI के वकील ने याचिका को खारिज करने और जुर्माना लगाने की मांग

नोटिफिकेशन में यह नहीं कहा गया है कि दो हजार 20,000 रुपये के नोट दैनिक आधार पर बदले जाएंगे। बताया गया है कि एक बार में 20,000 रुपये के 2,000 रुपये के नोट बदले जाने की बात कही गई हैं। याचिकाकर्ता के दावों के जवाब में, आरबीआई के वकील ने कहा कि यह एक मौद्रिक नीति विषय है जिसमें अदालत हस्तक्षेप नहीं कर सकती है।

आरबीआई के वकील ने पिछले कई फैसलों का भी जिक्र किया। आरबीआई के वकील ने कहा कि अदालत ने पहले ही फैसला दिया है कि वह आर्थिक नीति के विचारों में हस्तक्षेप नहीं करेगा। याचिका के जवाब में आरबीआई के वकील ने कोर्ट से इसे खारिज करने और जुर्माना लगाने की मांग की।

Leave a Comment

Join Whatsapp