अंग्रेजी के प्रोफेसर ने “मेरा बलम थानेदार चलावे जिप्सी” गाने पर धांसू ठुमका से मचाया धमाल, वीडियो हुई वायरल

Mera Balma Thanedar Chalawe Gypsy,teacher, principal,Dushyant Kaul, Assistant Professor of Law,Shalini Kaushik,

English professor’s video went viral: मध्य प्रदेश के गुना से एक वायरल वीडियो में, दो सहायक प्रोफेसर सुनसान सड़क पर ‘मेरा बलमा थानेदार चलावे जिप्सी’ और ‘हां यहां कदम कदम पर लाख हसीना हैं’ गाने पर डांस करते हैं। वीडियो वायरल होने के बाद से शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है।

हालांकि इस टीचर के वीडियो का छात्रों ने विरोध किया है। वायरल वीडियो में प्राचार्य का कहना है कि अगर कोई शिकायत करेगा तो संबंधित प्रोफेसरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

वायरल वीडियो में दो लोग डांस करते हैं। गुना के गवर्नमेंट कॉलेज पीजी कॉलेज में लॉ के असिस्टेंट प्रोफेसर दुष्यंत कौल और अंग्रेजी की असिस्टेंट प्रोफेसर शालिनी कौशिक। बीच सड़क पर डांस कर दोनों ने ट्रैफिक नियमों का मजाक उड़ाया।

इसको लेकर छात्रों व कॉलेज प्रबंधन ने नाराजगी जताते हुए उन पर कई तरह के आरोप लगाए। छात्रों के अनुसार, जिम्मेदार पदों पर सहायक प्रोफेसर ही इस तरह का काम करेंगे, तो फिर छात्र क्या सीखेंगे। वायरल वीडियो के बाद कॉलेज प्राचार्य ने कहा है कि इस संबंध में कोई लिखित शिकायत नहीं मिली है।

View this post on Instagram

A post shared by Shalini Kaushik (@shalini.kaushik_)

लिखित शिकायत मिलने पर दोनों सहायक प्रोफेसरों से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। प्राचार्य बीके तिवारी के अनुसार दोनों सहायक प्राध्यापकों का एक वीडियो नियमों के विरुद्ध काम करता नजर आ रहा है। सरकारी सेवा आचरण नियमावली के अनुसार इसे कदाचार की श्रेणी में रखा गया है। इसलिए उसके अनुसार कार्रवाई की जा सकती है।

सवाल यह भी पूछा गया कि अगर कोई तेज रफ्तार वाहन अचानक आ जाता और उनके नाचने के बीच कोई बड़ा हादसा हो जाता तो कौन जिम्मेदार होता। जहां तक इस मामले की बात है तो असिस्टेंट प्रोफेसर शालिनी कौशिक का दावा है कि कॉलेज के भीतर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। सारा काम कॉलेज के बाहर किया गया है।

View this post on Instagram

A post shared by Shalini Kaushik (@shalini.kaushik_)

ऐसा हमने दोस्ताना रिश्ते के चलते किया। इससे बच्चा कक्षा में सहज महसूस करता है। कई बार डर के कारण बच्चा सवाल नहीं पूछ पाता। यदि आप अपने बच्चे के साथ दोस्ताना संबंध नहीं रखेंगे, तो वे खुलकर नहीं बोलेंगे।

शालिनी कौशिक ने कहा कि यहां के बच्चे अंग्रेजी बोलने में झिझकते हैं। इसके लिए हमने ‘कम्युनिकेशन स्किल्स’ कोर्स भी बनाया है। इसमें हम बच्चों को यह भी सिखाते हैं कि खुद को रील में कैसे पेश किया जाए।

Join Whatsapp